• Fri. Jun 21st, 2024

रील पर लगाई गई रोक आस्था और परंपरा और रीति रिवाजों को चोट न पहुंचाने की अपील

ByKOMAL.PUNDIR

May 18, 2024
Picsart 24 05 18 16 01 51 991

रील पर लगाई गई रोक आस्था और परंपरा और रीति रिवाजों को चोट न पहुंचाने की अपील

रील पर लगाई गई रोक आस्था और परंपरा और रीति रिवाजों को चोट न पहुंचाने की अपील भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने कहा, चारोंधामों के परिसर में रील बनाने पर रोक सरकार का सही और व्यावहारिक निर्णय है। उन्होंने यात्रा में रिकॉर्ड तोड़ श्रद्धालुओं के पहुंचने को राज्य की आर्थिकी के लिए सुनहरा अवसर बताया।

कहा, यात्रा को सुरक्षित और व्यवस्थित बनाने के लिए सबकी सहभागिता बेहद जरूरी है। कहा, सीएम पुष्कर सिंह धामी यात्रा व्यवस्थाओं की खुद मॉनिटरिंग कर रहे हैं। वह ग्राउंड जीरो पर जाकर यात्रियों से फीड बैक ले रहे हैं। यह आमजन और श्रद्धालुओं में उत्साह भरने वाला कदम है।

साल-दर-साल तीर्थयात्रियों की बढ़ती संख्या प्रदेश की आर्थिकी के लिए सुनहरा अवसर है। लिहाजा सरकार के साथ हम सभी सवा करोड़ देवभूमि वासियों का भी दायित्व है कि राज्य की मेहमाननवाजी की शानदार तस्वीर लेकर श्रद्धालु जाएं। इसके लिए सबसे जरूरी है कि सड़क, आवास, पानी, स्वास्थ्य, खानपान, संचार आदि की व्यवस्था दुरुस्त हो। उसके लिए धामों की क्षमता के अनुसार ही लोगों को वहां पहुंचना भी जरूरी है।

ऐसा करने में तात्कालिक रूप से स्थानीय व्यावसायियों को कुछ नुकसान नजर आ सकता है। लेकिन, धीरे-धीरे यात्रा आगे बढ़ने पर बड़े लाभ के रूप में उन्हें स्थायी रूप से प्राप्त होने वाला है। बिना पंजीकरण यात्रा की अनुमति न देने के फैसले का उन्होंने स्वागत किया। यात्रा पर आने वाले सभी श्रद्धालुओं से आग्रह किया कि अन्य लोगों की आस्था, परंपरा एवं रीति रिवाजों को चोट पहुंचाने वाला कोई कृत्य न करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *